जीवन में कुछ छोड़ देने के बाद ही
सब कुछ मिलता हैं..!!
Read more...

प्रेम से विरह उत्पन होता है।
विरह से दर्द होता है।
दर्द से तड़प, तड़प से प्राथना होती है।
प्राथना से भक्ति,भक्ति से ध्यान लगता है।
ध्यान से परमात्मा,
परमात्मा से संतुष्टि मिलती है।
संतुष्टि से चैन और चैन से प्रेम मिलता है।
Read more...

विधान को चुनना ज़ुबान को नहीं 
संविधान को चुनना अज्ञान को नहीं
किसान को चुनना निशान को नहीं
जवान को चुनना सुल्तान को नहीं
ईमान को चुनना बेईमान को नहीं
मुस्कुान को चुनना गुमान को नहीं
मकान को चुनना मसान को नहीं
इंसान को चुनना शैतान को नहीं

याद रहे ना हिंदू को ख़तरा है
ना मुसलमान को ख़तरा है
ख़तरे में भारत है !
Read more...

आप का क़द नहीं आप की विनम्रता आपकों बड़ा बनाती है
Read more...

जो मुश्किलों से मैंने सिखाया था उस को दोस्त 
उसने वो इश्क करके दिखाया किसी के साथ
Read more...

बहुत कम लोग है जो मेरे दिल को भाते है,
और उससे भी कम लोग मुझे समझ पाते है।
Read more...

तुमने मेरी आंख में शाय़द झांक कर नहीं देखा
तुम मेरे करीब से इतना बचकर निकल गये
Read more...

समझता है कि अपनी तेज बहती धार से या लहरों के वार से
डुबो देगा हमारे हौंसलों की कश्तियाँ तो ये फितूर है पानी का
Read more...

इतना भी बुरा मत समझो
हमें हमें दर्द सहने की आदत है
दर्द देने की नहीं ..
Read more...

छोटी छोटी चीजों में खुशी ढूंढना सीख लो, 
जरूरत पड़ने पर अपना हाथ खुद पकड़ना सीख लो।
Read more...