सूरज जैसा बनना है तो
सूरज जितना जलना होगा

नदियों सा आदर पाना है तो
पर्वत छोड़ निकलना होगा...