आज की सुबह खास है 
बादल का वो टुकड़ा बारिश के साथ
तेरी यादों की फुहार भी लाया है
मैं खुद को आज सींचूँगी
मन में बसी विरह की तपिश
को इन गिली बूंदो से

कुछ नयी कलियाँ
कुछ नये सपने
कुछ नये से तुम
खिल के मेरे सीने में
फिर से बहार ले आओगे