परिवार, हालात और रिश्ते जो संभालना चाहता है,
वही झुक जाता है,
वर्ना स्वाभिमान तो सुदामा का भी कहाँ कम था।