ना हक़ दो इतना कि तकलीफ़ हो तुम्हें,
ना दो वक्त इतना कि गुरुर हो उन्हें.....